गाज़ियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की अस्पताल में इलाज के दौरान हुई मौत


गाज़ियाबाद के पत्रकार विक्रम जोशी की आज इलाज के दौरान मौत हो गई  है. परसो की रात बदमाशों ने उसे बीच रास्ते मे रोका और मारपीट करके उनके सिर में गोली मारी दी. इसके बाद उन्हें गाज़ियाबाद के यशोदा अस्पताल में दाखिल कराया गया था लेकिन ज़ख्मी विक्रम अपने ज़ख्मों की ताब न ला सके और आज सुबह 4 बजे उन्होंने दम तोड़ दिया. 

विक्रम जोशी कुछ बदमाशों ने हमला किया तब विक्रम के  साथ उनकी बेटियां भी मौजूद थीं. बताया जा रहा है कि विक्रम जोशी ने अपने भांजी से छेड़छाड़ के मामले में केस दर्ज करवाया था. इस केस के बारे में जैसे ही बदमाशों का पता चला तो उन्होंने विक्रम जोशी पर सरेआम हमला कर दिया और सिर में गोली मारी. यह वारदात सीसीटीवी कैमरों में भी हुई है. 

विक्रम की मौत के परिवार वालों का कहना है कि हम विक्रम की डेड बॉडी नहीं लेंगे. उनका इल्ज़ाम है कि इस मामले में अहम मुल्ज़िम को गिरफ्तार अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है. परिवार का कहना है कि जब तक अहम मुल्ज़िम को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा तब हम विक्रम जोशी का डेड बॉडी नहीं लेंगे.

इस मामले में पुलिस ने अब तक 9 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही चौकी इंचार्ज को भी सस्पेंड कर दिया गया है. मामले में पुलिस पर भी संगीन इल्ज़ामात लगाए हैं. जानकारी के मुताबिक जब पत्रकार अपनी भांजी से छेड़छाड़ के खिलाफ मामला दर्ज कराने गए थे तो पुलिस इस मामले को संजीदगी से नहीं लिया था।

इस घटना के बाद योगी सरकार ने पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये की आर्थिक मदद का वादा किया है उसके साथ उनके बच्चों को पढ़ाई-लिखाई फ्री कर दी है और उसे सरकारी नौकरी दिलाने का वादा भी दिया है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां